मानव उत्सर्जन तंत्र Human Excretory System

उत्सर्जन तंत्र Human Excretory System

उत्सर्जन तंत्र (Human Excretory System) :-

उत्सर्जन तंत्र (Excretory System) का अर्थं :-
शरीर से अपशिष्ट तथा विषैले पदार्थो को बाहर निकालने की क्रिया को उत्सर्जन  कहा जाता है |  तथा इस क्रिया में कार्य करने वाले अंगो के समूह को “उत्सर्जन तंत्र" (Excretory System) कहते है |

Human-Excretory-System, Online-Exam-Study

इस क्रिया में अमोनिया, यूरिया, यूरिक अम्ल, कार्बन-डाइ-ऑक्साइड आदि को शरीर से बाहर निकला जाता है | 

नाइट्रोजनी अपशिष्ट पदार्थ :-

अमोनिया
यूरिया
यूरिक अम्ल 

अमोनिया :-

अमोनिया का उत्सर्जन अमोनियाउत्सर्ग प्रक्रिया (“Ammonotelism”) द्वारा होता है | अमोनिया के उत्सर्जन के लिए सर्वाधिक आवश्यकता जल की होती है |
अतः मछली, जलीय कीट, उभयचरो के द्वारा ये उत्सर्जन होता है |

यूरिया :-    

यह उत्सर्जन प्रक्रिया स्तनधारी समुंद्री मछलियाँ आदि करते है | इन जीवों को यूरिया उत्सर्जी कहा जाता है | कोशिकाओं द्वारा उत्सर्जी अमोनिया को यकृत यूरिया में परिवर्तित करता है जिससे वृक्कों द्वारा निस्पंदन कर उत्सर्जित कर दिया जाता है |

यूरिक अम्ल :-

पक्षीयों, सरीसृपों तथा कीटों द्वारा अमोनिया को यूरिक अम्ल में परिवर्तित कर दिया जाता है | यूरिक अम्ल का निर्माण बहुत कम जल में भी हो जाता है | तथा इसको गोलियों या पेस्ट के रूप में उत्सर्जित कर दिया जाता है |

मानव के उत्सर्जन अंग Human Excretory Organs :-

वृक्क
त्वचा
फेफड़ा
यकृत

वृक्क (kidney) :-

वृक्क के ऊपर एड्रिनल ग्रंथि होती है | जो रक्त चाप को नियंत्रित करती है | प्रत्येक वृक्क एक करोड़ तीस लाख नलियों से मिलाकर बनी होती है | जिसे नेफ्रॉन कहा जाता है |
नेफ्रॉन ही वृक्क की कार्य इकाई है |
Human-Kidney, Online-exam-study

वृक्क का कार्य :-

रक्त के प्लाज्मा को छान कर शुद्ध करती है | ये रक्त में उपस्थित अपशिष्ट पदार्थों को रक्त से अलग करती है | ये यूरिया, यूरिक अम्ल को पानी के साथ यूरिन (मूत्र) के रूप में शरीर से बाहर निकालती है |
वृक्क द्वारा रक्त के शुद्धिकरण की प्रक्रिया को “डायलेसिस” कहा जाता है | 

यूरिन (मूत्र) :-

समान्य यूरिन में :- 95% पानी
                  2.7% यूरिया
                  2% लवण
                  0.3% यूरिक अम्ल
यूरिन का रंग हल्का पीला होता है | जिसका कारण युरोफ्रोम की उपस्तिथि होती है | 
मानव यूरिन का pH मान 6 होता है |
किडनी में बनने वाली पथरी कैल्शियम अक्जिलेट की होती है |

त्वचा (Skin) :-

Sweat ग्रंथि पसीने के रूप में अपशिष्ट पदार्थो को शरीर से बाहर निकालती है |
यह शरीर का ताप नियंत्रित रखती है |

मानव शरीर का सबसे बड़ा अंग त्वचा है |

फेफड़ा (Lungs) :-

यह हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाली कार्बन-डाइ-ऑक्साइड को बाहर निकालता है |
शरीर के उत्तक कार्बोहाइड्रेट, वसा व प्रोटीन को मेटाबोलिज्म यानी की भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करते है |
Human-Excretory-System, Online-Exam-study

यकृत (Liver) :-

यह हानिकारक पदार्थो जैसे अमोनिया और अतिरिक्त प्रोटीन को, यूरिया और यूरिक अम्ल में परिवर्तित कर देता है | तथा वृक्क की सहायता से उत्सर्जन करता है |
यकृत की वसा का पाचन करने में महत्वपूर्ण भूमिका है |

Liver, Online-Exam-study

उत्सर्जन तंत्र सम्बन्धी प्रश्न

Post a Comment

0 Comments